सेक्सी वीडियो एक्स एक्स एक्स हिंदी में

चाची के साथ सेक्सी

चाची के साथ सेक्सी, शशी: हाय ये तो बहुत बड़ा है। ये मेरे अंदर कैसे जाएगा। मेरे पति का तो इससे आधा ही लम्बा होगा और बहुत पतला भी है। साधना को सोच में देखकर मैं बोला: साधना, ज़्यादा सोचो मत । तुम दोनों उसको अच्छी तरह से सिखा दो और फिर मज़े लो घर के घर में।

कहां अम्मा, मुझे तो फ़ूल सी लगती है तू, तेरा यह गुदाज गोरा गोरा बदन किसी दुल्हन से कम थोड़े है! .... और रोज तो उठाता हूं तुझे, आज क्या नयी बात है? चल आ जा ... ऐसे ... मेरी गरदन में बांहें डाल दे दुल्हन जैसे ..... बस हो गया .... आ गया बिस्तर .... ले अब लेट जा और टांगें फ़ैला दे मानुष गंध , और इस महक को तो मैं अमराई के आर पार से भी पहचान सकती थी , कामिनी भाभी के सैयां ,मेरे नए बने भैय्या ,...

डॉली: चलिए ये बाहर जा रहें हैं, हम इनके पीछे पीछे बाहर निकल जाएँगे। वो दोनों बाहर आकर कार ने बैठे। डॉली: आज जो देखा, मेरा तो सिर ही घूम गया। क्या ससुर और बहू भी इतनी नीच हरकत कर सकते हैं। चाची के साथ सेक्सी राज ने ब्लाउस के हुक खोले और रश्मि ने हाथ उठाकर अपना सहयोग दिया ब्लाउस उतारने में। उसकी चिकनी बग़ल देख कर वह मस्त हुआ और उसके हाथ को उठाकर बग़ल को सूँघने लगा और फिर जीभ से चाटने लगा। दोनों बग़लों को चूमने के बाद वह उसका पेटिकोट का नाड़ा भी खोल दिया और अब रश्मि सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में थी।

इंडियन सेक्स व्हिडीओ

  1. तो माधुरी तेरी कौन है जिसके साथ तू ये सब बारे मजे से करता है, देख योगेश अपने मन से ये सब वहाँ निकल दे जब तूने माधुरी और बाकियो में अपनी बहन नहीं देखी तो मनीषा में ही तुझे अपनी बहन क्यों दिखाई दे रही है, और माधुरी तू क्या तमाशा देख रही है तू भी तो कुछ समझा योगेश को टीना बोली
  2. आकाश मुझे छत पे बने स्टोर रूम में ले गया. वहाँ पे टूटा-फूटा फर्निचर पड़ा हुआ था और एक चारपाई पड़ी थी. आकाश ने मुझे चारपाई पे लिटा दिया और फिर डोर बंद करते हुए स्टोर की लाइट ऑन कर दी. मेरा बचना अब ना-मुमकिन था सो मैने सोच लिया था कि अब एंजाय करना चाहिए. मैने मुस्कुराते हुए आकाश की तरफ देखा और कहा. देहाती हिंदी पोर्न वीडियो
  3. उस दिन पढ़ते हुए उसने कुछ गलती की तो मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और कहा- आज तुमको इस गलती की बड़ी सजा मिलेगी.. बुलबुल मेरे नरम लौड़े से खेलते हुए बोली: मुझे क्यों ऐतराज़ होगा। उनका बेटा पहले है , मेरा पति तो बाद में बना है।
  4. चाची के साथ सेक्सी...बोल तुझे ये तेरा जोबन कैसा लगता है , है न लौंडो को ललचाने के लायक , सारा गाँव मरता है इस पे , बोल है न दिखाने के लायक। डॉली: छी दीदी आप भी मज़ाक़ करती हो। वैसे ब्रा का साइज़ दो नम्बर बढ़ा है और हाँ पापा जी कह रहे थे की मेरी छातियाँ और पिछवाड़ा उनको बहुत मादक लगता है।
  5. डॉली ने चाय पीकर जय को उठाया और वह भी नहाकर नाश्ता करके दुकान चला गया। उसके जाने के बाद डॉली भी नहाने चली गयी। शशी भी राज के कमरे की सफ़ाई के बहाने उसके कमरे में गयी जहाँ दोनों मज़े में लग गए । पर आज तो राज कुछ भी सुनने को जैसे तैयार नहीं था । वह सामने पड़ी क्रीम की शीशी से क्रीम निकाला और शशी की गाँड़ में लगाया और अपने लौड़े पर भी मला और फिर उसकी गाँड़ में अपने लौड़े का सुपाड़ा अंदर करने लगा।

इंडियन सेक्सी व्हिडिओ मराठी

माँ ने मुझे उसे देखते ,देखा और उसके पास ही आंगन के कच्चे वाले हिस्से में ,उसके पास ही खींच के अपने पास बिठा लिया।

धत्त बोली मैं लेकिन अपने बड़े बड़े गदराए नितम्ब उसके खड़े खूंटे पे कस कस रगड़ दिया और उस के हाथों के बंधन छुड़ाते हुए भाग खड़ी हुयी। मे-बस अब हिलना मत मैं बाहर से किसी बहाने भैया को अंदर भेजूँगी. ज़ाहिर है आपको ऐसी हालात में देखकर भैया कंट्रोल नही कर पाएँगे और बेड पे आकर आपसे लिपट जाएँगे. मगर आपको उन्हे अपने उपर से उतार कर 2-4 खरी-2 सुनाकर मटकते हुए बाहर आना है.

चाची के साथ सेक्सी,राज उनकी सेक्सी बातें सुनकर अपने खड़े लौड़े को दबाकर मस्ती से भर उठा। और इसके पहले कि डॉली बाहर आती वह वहाँ से निकल गया।

गुलनाज़ दीदी के घर में घुसते ही मैं उन्हे आवाज़ देने लगी. तभी जावेद भैया अपने रूम में से निकले और बोले.

तभी पास आती मोनिका बोली- क्या मनु तू भी क्या बेकार का झांजात ले कर बैठ गई जब ये तेरे अंकल के समझने से भी नहीं मैंने तो क्या तेरी बात मान लेंगे और वैसे भी ये लोग तो बचपन से ही ऐसे बिहवे करते है’इंडियन बीएफ बीएफ बीएफ

जय: हैरानी तो मुझे भी बहुत हुई और फिर वो कमीना अपने किसी दोस्त से भी उसे चु– मतलब करवाने के लिए बोल रहा था। दीदी बोली- मैं नीचे बैठ जाती हूँ, मुझे एक बर थोड़ा सा स्वाद चखना है और अगर अच्छा लगा तो पूरा पी जाउंगी !

रोज मुंह अंधेरे , भिनसारे जब भोर का तारा अभी आसमान में ही रहता ,प्रत्यूषा भी अपने नन्हे नन्हे पग धरते नहीं आ पाती उस समय ,...

वो घर जिसपर खपड़ैल वाली छत थी और सामने एक कच्चा कुंआ था , अब हम लोगों की पगडण्डी के ठीक बगल में आ गया था , मुश्किल से २०० कदम रहा होगा , और गुलबिया उसी घर की ओर मुड़ गयी।,चाची के साथ सेक्सी सो ये मोहल्ला मजेदार है की नहीं रंगीला. हम जब गुड़गावां से मूव हो रहे थे, तो वहां के पड़ोसियों को छोड़ने का बड़ा अफ़सोस था हमें. हम उनसे काफी करीब भी आ चुके थे

News